Proud to be an Indian

Proud to be an Indian

Most Commented

Recent Post

Share

Bookmark and Share

Subscribe

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Suggestions

Saturday, March 20, 2010

हम अपना अधिकार मांगते, नहीं किसी से भीख मांगते


आज दिनांक १९ मार्च २०१० को समय ११ बजे सुबह से २ बजे शाम तक स्थान शहीद स्मारक लखनऊ जन आन्दोलनों का रास्ट्रीय समन्वय एवं आशा परिवार के बैनर तले एक दिवसीय धरना संपन्न हुआ। यह धरना आम जनता के मौलिक अधिकारों कों लागू करने की मांग हेतु आयोजित किया गया था। इस धरने को लखनऊ की गरीब बस्तियों में रह रहे लोगों ने अपने अधिकारों की मांग के लिए स्वयं रखा था। इस धरने में मैग्सेसे पुरष्कार के विजेता सामाजिक कार्यकर्ता डॉ संदीप पाण्डेय सहित करीब २५०-३०० लोगों ने भाग लिया। धरना करना आम जनता की मजबूरी बन गया है, क्योंकि स्वतंत्र एवं लोकतंत्र भारत में आज भी आम जनता अपने मौलिक अधिकारों से वंचित है। सरकारी कागजों पर भले ही जनता के मौलिक अधिकार सरकार ने दे दिए हों लेकिन जमीनी हकीकत यह है कि आम आदमी आज भी गरीबी, भुखमरी, आश्रयहीन, अशिक्षा, महगाई, बिमारी असुरक्षा का शिकार है। इस स्वतंत्र भारत की आधी से अधिक जनता के लिए अधिकारों की बात तो दूर, दो वक़्त की रोटी और सिर के ऊपर छत भी नसीब नहीं हो पा रही है। सरकार की जितनी भी कल्याणकारी योजनायें चलायी जा रहीं हैं उनमें से किसी भी योजना का लाभ पात्र व्यक्ति को नहीं मिल पा रहा है । चाहे वह इंदिरा आवाश हो , चाहे पेंसन हो , चाहे शहरी गरीब आवास हों, चाहे वह शिक्षा हो ,चाहे एल. डी. ए. की आश्रय हीन योजना हो, चाहे वह काशीराम शहरी गरीब आवास हो, चाहे स्वास्थ्य संबंधी योजना हो, चाहे बी. पी. एल. राशन कार्ड हो, चाहे शहरी रोजगार संबंधी योजना हो, चाहे पुलिश सुरक्षा हो, चाहे सुरक्षा का अधिकार हो आदि। सबसे अहम् बात तो यह है कि इनमें मौलिक अधिकारों के लिए ही विभाग बनाये गए हैं और उन विभागों में जनता की सेवा के लिए ही कर्मचारी नियुक्त किये गए हैं । कर्मचारियों के वेतन से लेकर सभी सरकारी खर्च स्वयम जनता के पैसे से किये जाते हैं । एक हिसाब से देखा जाये तो जनता और कर्मचारियों के बीच एक मालिक और नौकर का रिश्ता है । जहाँ जनता मालिक और सरकारी कर्मचारी नौकर है । सरकार और सरकारी कर्मचारियों को जनता से पूछना चाहिए की आपका पैसा है वह हम लोग किस काम और विकास में खर्च करें ? विकास का बजट आम लोग बना कर दें । लेकिन हो उलटा रहा है, यहाँ सरकार अपनी इच्छा अनुसार कुछ भी योजनायें बनाती है और जबरदस्ती उसे जनता पर लाद देती है।अब सवाल यह है कि जिसका पैसा है और जिसके लिए योजनायें बन रही हैं उससे पूछने की जरूरत ही नहीं समझी जाती है । सरकार को पूरी जानकारी होती है कि कहाँ गड़बड़ी हो रही है और कौन इन योजनावों का लाभ पा रहा है । लेकिन इस पर कोई कार्यवाही नहीं की जाती है । अब यह देखिये कि जो मेहनत का काम करता है उसके लिए सिर्फ १०० रुपये मजदूरी और साल में १०० दिन का काम, बाकी दिन? समान शिक्षा अधिनियम तो आ गया लेकिन आज भी गरीब का बच्चा वही सरकारी स्कूलों में जाता है जहाँ कि शिक्षा व्यवस्था पर हर कोई रोता है और अपने बच्चों को इसमें पढ़ाना नहीं चाहता है । और करे भी क्या? प्राइवेट स्कूलों में पढ़ाने के लिए उनके पास इतना पैसा नहीं है और आई. ए. एस. , पी. सी. एस. तथा नेता का बच्चा कॉन्वेंट स्कूल में पढ़ता है क्योंकि वो पैसे वाले हैं।अब सरकारी शहरी गरीब आवास उन लोंगो को मिल जाते हैं जिनकी सरकार में पकड़ है, पैसा है ।अब आज की स्तिथि यह है कि नौकरशाह वर्ग जितना अमीर होता जा रहा है, गरीब उतना ही गरीब होता जा रहा है। इन्ही सब मुद्दों के लिए यह धरना दिया गया जनता की निम्नलिखित मांगे थी:
१) हमारे लिए समान शिक्षा प्रणाली वा पड़ोस के स्कूल की अवधारणा लागू हो ।
२)प्राइवेट स्कूलों में २५ प्रतिशत गरीब बच्चों की शिक्षा का नियम लागू किया जाए ।
३) हमारे लिए स्वास्थ्य चिकित्साएँ निःशुल्क वा सहजता से उपलब्ध हों ।
४)हमारे लिए ३६५ दिन का रोजगार मिले ।
५)मेहनतकश वर्ग को छठे वेतनआयोग में शामिल किया जाये ।
६)बाजार में चीजों की कीमतें गरीब वर्ग को ध्यान में रखकर तय की जाएँ ।
७)जिनके पास न हो उन्हें राशनकार्ड, मतदाता पहचान पत्र जारी किये जाएँ और शहरी गरीब खाते बैंकों में बिना किसी न्यूनतम राशि के खोले जायें ।

इन मांगो को जनता ने विरोध और नारों के साथ उठाया ।
नारे :
१)हम अपना अधिकार मांगते, नहीं किसी से भीख मांगते ।
२)शहरी गरीबी आवाश हमारे लिए नहीं तो किसके लिए?
३)छठा वेतन आयोग उनके लिए तो, महगाई हमारे लिए क्यूं?
४)शिक्षा नहीं कोई कारोबार, यह है जनता का अधिकार ।
५)समान शिक्षा का अधिकार, मांग रहा है हिन्दुस्तान ।
६) निःशुल्क शिक्षा हमारा अधिकार- हमारा अधिकार- हमारा अधिकार ।

)जब तक दुखी किसान रहेगा, धरती पर तूफ़ान रहेगा ।
)देश की जनता भूखी है, यह आजादी झूठी है ।
)हमारा पैसा, हमारा हिसाब
इस धरने का नेतृत्व सामाजिक कार्यकर्ता और आशा परिवार के जिला समन्वयक चुनीलाल ने किया
लेखक: चुनीलाल,
सामाजिक कार्यकर्ता
निवासी: अमृत खेड़ा, पो. उमरावल, तहसील-मलीहाबाद, जिला-लखनऊ २२७११५
मो.-9839422521 Email: chunnilallko@gmail.com

*Photo by Dinesh Chandra Varshney for Bharat Nav Nirman Only

No comments:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...